---Advertisement---

Uttarkashi: गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में पहुंचे 5 लाख से अधिक श्रद्धालु

By Patrika News Desk

Published on:

Uttarkashi: गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में पहुंचे 5 लाख से अधिक श्रद्धालु
---Advertisement---

उत्तराखंड की चार धाम यात्रा शुरू होने के बाद से लगातार रिकॉर्ड बना रही है। भले ही यात्रा शुरू हुए अभी एक माह नहीं हुआ है लेकिन उत्तरकाशी स्थित गंगोत्री और यमुनोत्री धाम में अभी तक 5 लाख से अधिक श्रद्धालु दर्शन कर चुके हैं।

यह भी पढ़ें- Uttarkashi News: यात्रियों से भरी बस हाईवे पर पलटी, मची चीख-पुकार..

बता दें कि गत 10 मई को यमुनोत्री और गंगोत्री धाम के कपाट खुलने के दिन से ही इन दोनों धामों पर बड़ी संख्या में श्रद्धालु का आगमन हो रहा है। मौजूदा यात्रा काल को आज 23 दिन पूरे हो चुके हैं और इन दौरान उत्तरकाशी जिले में अवस्थित इन दोनों धामों में 536358 श्रद्धालुओं का पदार्पण हो चुका है। जबकि इन दोनों धामों में 5 लाख का आंकड़ा वर्ष 2023 में 31 दिन में और वर्ष 2022 में 34 दिन में पूरा हुआ था।

गंगोत्री धाम में भी इस बार निरंतर भी पिछले साल की तुलना में काफी अधिक श्रद्धालुओं के आगमन का क्रम जारी है। गंगोत्री में इस बार 23 दिनों के भीतर ही तीर्थ यात्रियों का आंकड़ा ढाई लाख के पार हो गया है। धाम में आज तक 262669 तीर्थयात्री पहुंच चुके हैं। जबकि गंगोत्री में इससे पहले ढाई लाख यात्रियों की आमद पूरा होने में वर्ष 2023 में 30 दिन (253962) तथा वर्ष 2022 में 29 दिन (254226) लगे थे।

रिकॉर्ड संख्या में तीर्थयात्रियों के आवागमन को देखते हुए प्रशासन ने यात्रा व्यवस्थाओं को निरंतर चाक-चौबंद बनाए रखने के साथ ही धामों, पड़ावों व यात्रा मार्गों पर यात्री सुविधाओं को बढाने पर विशेष ध्यान दिया है। स्वयं जिलाधिकारी द्वारा अनेक बार दोनों धामों के यात्रा पड़ावों व मार्गों का निरीक्षण करते हुए अधिकारियों को भी निरंतर धामों, यात्रा पड़ावों व मार्गों पर तैनात किया हुआ है।

यात्रियों की सुविधा व सहायता के लिए समूचे यात्रा मार्गों पर इंतजामों को बढाया गया है। यात्रा प्रबंधन एवं भीड़ नियंत्रण के लिए भी प्रशासन के स्तर पर अनेक महत्वपूर्ण फैसले लेकर उन पर सख्ती से अमल किया जा रहा है। जिसके फलस्वरूप यात्रा व्यवस्थित रूप से संचालित हो रही है और यातायात सुगम व सुचारू बना हुआ है।

Patrika News Desk  के बारे में
Patrika News Desk we are dedicated to celebrating and preserving the rich cultural heritage of the Pahari region.
For Feedback - contact@paharipatrika.in
---Advertisement---