Uttarakhand

अमृता रावत केस: उत्तरकाशी जिला अस्पताल में परिजनों का हंगामा, शव उठाने से किया मना

उत्तरकाशी के संगमचट्टी क्षेत्र के भंकोली गांव निवासी अमृता रावत का शव कफलों के बेसिक रिजॉर्ट में मिलने के बाद मामले की जांच को लेकर परिजनों और ग्रामीणों का हंगामा जारी है।

शनिवार दोपहर को परिजन और ग्रामीण उत्तरकाशी जिला अस्पताल पहुंचे, जहां पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट सार्वजनिक न करने पर जमकर बवाल काटा और शव उठाने से इनकार कर दिया। कहा कि पहले पीएम रिपोर्ट दिखाई जाय। इसको लेकर सीएमएस कार्यालय में ग्रामीणों ने जमकर पुलिस के खिलाफ़ नारेबाजी की और अमृता रावत को न्याय दिलाने की मांग रखी। जिला अस्पताल में परिजन लगातार हंगामा काट रहे हैं।

यह भी पढ़ें- उत्तरकाशी में अंकिता भंडारी जैसा हत्याकांड ? रिजॉर्ट में संदिग्ध परिस्थितियों में मिला युवती का शव

परिजनों ने अमृता की हत्या की आशंका जताते हुए आरोपियों के खिलाफ़ उचित कार्रवाई की मांग की है। उचित कार्रवाई न होने पर अस्पताल से शव को उठाने से साफ इंकार किया है। इस बीच पुलिस ने मामले में शुक्रवार को रिजॉर्ट के दो कर्मचारियों को हिरासत में लिया है। पुलिस पीएम रिपोर्ट का इंतजार कर रही है। इसके आधार पर ही पुलिस मामले में आगे की कार्रवाई का कदम उठाने की बात कह रही है।

बता दें कि अमृता का शव कफलों रिजॉर्ट में शुक्रवार को फंदे से लटका मिला। अमृता पिछले एक साल से रिजॉर्ट में नौकरी कर रही थी। बताया जाता है कि अमृता रिजॉर्ट मालिक के यहां बतौर केयर टेकर नौकरी पर रखी गई थी। फंदे से लटका शव पुलिस ने कब्जे में लेकर जिला अस्पताल पीएम के लिए भेजा था। सीओ अनुज कुमार ने बताया कि मामले में पीएम रिपोर्ट देखने के बाद आगे की कार्रवाई करेंगे।

Related Articles