बड़ी खबर: नैनीताल हाईकोर्ट ने इस तारीख तक चारधाम यात्रा पर लगाई रोक

कोरोना महामारी की वजह से राज्य सरकार ने चारधाम यात्रा ( char Dham Yatra ) स्थगित कर दी थी, परंतु अब राज्य सरकार यात्रा को खोलने के लिए विचार कर रही है, वहीं इस मामले में नैनीताल हाईकोर्ट ( nainital high court ) में सुनवाई चल रही है, जिस पर आज सुनवाई होनी थी। चार धाम यात्रा पर नैनीताल हाईकोर्ट ने फिलहाल आगामी 22 जून तक रोक लगाते हुए नई नियमावली न्यायालय के सामने रखने को कहा है।

यह भी पढ़ें- उत्तराखंड: डीजीपी अशोक कुमार के नाम से फेसबुक पर मांगे रुपए,

बता दें कि सोमवार को कैबिनेट मंत्री सुबोध उनियाल ने कहा था कि 3 जिले रुद्रप्रयाग, चमोली और उत्तरकाशी के निवासी जिले स्तर पर चारधाम यात्रा कर सकते हैं, हालांकि इसके लिए कोविड-19 rt-pcr नेगेटिव रिपोर्ट अनिवार्य थी, जिसके बाद उन्होंने नैनीताल हाई कोर्ट (Nainital High Court ) में चल रही सुनवाई का हवाला देते हुए आदेश को रद्द कर दिया था।

चारधाम यात्रा पर नैनीताल हाईकोर्ट ने लगाई रोक

नैनीताल हाईकोर्ट में आज न्यायालय ने पर्यटन सचिव के मुख्यमंत्री व अन्य अधिकारियों के राज्य से बाहर होने के तर्क को नकारते हुए ऑनलाइन मीटिंग कर नए नियमावली बनाने के आदेश दिए हैं। मुख्य न्यायाधीश रविन्द्रसिंह चौहान और न्यायमूर्ति आलोक कुमार वर्मा की खंडपीठ ने ऑनलाइन सुनवाई के बाद पर्यटन सचिव दिलीप जावलकर को शपथ पत्र दाखिल करने को कहा।

चारधाम यात्रा ( char Dham Yatra ) की तैयारियों के लिए न्यायालय द्वारा किए गए निरीक्षण के दौरान सामने आए खामियां, तैनात पुलिसकर्मियों की संख्या पर जानकारी देने को कहा है, खंडपीठ ने यह भी पूछा कि चारधाम मार्गोको सैनिटाइज किया जाएगा या नहीं?

 

याचिकाकर्ता के अधिवक्ता न्यायालय को बताया कि बीते वर्ष में चार धाम में 310568 श्रद्धालुओं ने दर्शन किए थे, परंतु इस वर्ष कोरोना वायरस की दूसरी लहर को देखते हुए सरकार को बेहतर स्वास्थ्य सुविधाओं का ध्यान रखने की जरूरत है। इस मामले पर अब 23 जून को अगली सुनवाई होगी।

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *